Rose Day Shayari , 7 February Shayari In Hindi.

Rose Day के इस खास मौके पर, हमारा आप सभी को एक बहुत ही प्यार भरा नमस्ते! 🌹 आज हम गुलाबों के हसीं जहाज़ में सवार होकर, प्यार के इस सफर में कुछ खास पलों का आनंद लेने के लिए एक दूसरे के साथ हैं। गुलाब का यह सुंदर तोहफा हमें याद दिलाता है कि प्यार का इस सफर में हर रंग और मिठास है। Rose Day के इस मौके पर, सभी को प्यार और खुशी भरी ये खास दिन मुबारक हो! 🌹💖

Advertisement

Rose Day पहला दिन है Valentine Days के सात दिनों में से। Rose Day Shayari

नाजुक सही पर गुलाब प्यारा है,
समेट हम लाए प्यार हमारा है,
अब सम्भालों तुम इसको
गुलाब पर ही नहीं हम पर भी हक तुम्हारा है

गुलाबों की इस राह में चल पड़ी ये राह,
प्यार की मिठास से सजा है हर क़दम। 🌹

बहुत है खास ये दिन, रोज़ डे का है तोहफा,
दिल से कहता हूँ, तुम्हारे बिना कुछ भी नहीं है काफी। 💕

एक खूबसूरत ख्वाब हो आप,
दिल को छू जाने वाले अहसास हो आप
आपको क्या दें गुलाब हम,
गुलाबो में खूबसूरत गुलाब हो आप

गुलाबों का रंग है सजीव, प्यार की राहों में,
रोज़ डे के मौके पर, हर दिल को है तुमसे मोहब्बत का इज़हार। 🌷

दिल की बातें कहीं अनकही रह जाती हैं, रोज़ डे पे, इश्क की कहानी खास हो जाती है।

वो लोग भाग्यशाली होते है
जिन्हें जीवन मे सच्चा प्यार मिलता है
मैं उनमे से एक हूँ।।

इस रोज़ डे, गुलाबों की भरमार हो,
प्यार की शायरी से दिल को बहुत प्यार हो।

मिले थे तुम जिस रोज,
तब से चाहा है तुम्हे हर रोज।
मेरी तरफ से कुबूल करना एक,
प्यारा सा रेड रोज।।

गुलाबों की बहार, दिलों का इज़हार,
रोज़ डे की शुभकामनाएं, हर दिल को प्यार।

तेरा मेरा साथ इतना पुराना हो गया,
बदलते बदलते मौसम सुहाना हो गया ।
याद है वो हमारी पेहली मुलाकात,
तू मेरी दीवानी में तेरा दीवाना हो गया।।

मैं आपके प्रति अपने प्यार का इजहार करने के लिए लाल गुलाबों का यह खूबसूरत गुलदस्ता भेज रहा हूं जो समुद्र की तरह गहरा है और आकाश की तरह विशाल है।

आपके होठो पर सदा खिलता गुलाब रहे
ऐसा दिन ना आए आप कभी उदास रहे ।
हम आपके पास चाहे रहे ना रहे
आप जिन्हें चाहे वो सदा आपके पास रहे।।

महक मोहब्बत की भरी है,
इसमें हमारे प्यार का अहसास है,
लाए सिर्फ आपके लिए,
ये गुलाब बेहद खास है,

प्यार की पंखुड़ियों से बंधा, गुलाब प्यारा है,
लाए समेट जिसमें हम आपके लिए दिल हमारा है

कुछ रिश्ते इस जहां में ख़ास होते हैं,
हवा के रूख से जिनके एहसास होते हैं,
ये दिल की कशिश नहीं तो और क्या है,
दूर रहकर भी वो दिल के कितने पास होते हैं