Letest Shree Ram Shayari 2024 in Hindi

Shree Ram Shayari 2024 in Hindi

Advertisement

भगवान राम, हिन्दू धर्म के एक प्रमुख आराध्य देवता हैं और उनकी कथाएं, किस्से और शायरी हमारे सांस्कृतिक धरोहर में गहराई से बसी हुई हैं। राम जी की शायरी, उनके भक्तों के दिलों को छू जाने वाली मेहनत है जो उनकी प्रेम भावना और भक्ति को अद्वितीयता के साथ व्यक्त करती है।

राम जी की शायरी का सुंदर अंश यह है कि यह भक्ति और प्रेम के साथ भरी होती है, जो इन शब्दों के माध्यम से आसानी से साझा की जा सकता है। इसके माध्यम से हम उनके आदर्शों और शिक्षाओं को अपने जीवन में अपना सकते हैं और अपने मार्ग पर चल सकते हैं। राम जी की शायरी हमें एक शांतिपूर्ण, सकारात्मक और प्रेमपूर्ण दृष्टिकोण प्रदान करती है, जो हमें जीवन के हर पहलुओं में गहरे आनंद का अनुभव करने का उत्साह देती है।

यहां कुछ राम जी की शायरी की रेखाएं हैं:

ना किसी के अभाव में जीते हैं ,
ना किसी के प्रभाव में जीते हैं ‘
हम तो ठहरे राम भक्त,
सिर्फ प्रभु के भक्ति भाव में जीते हैं |

“राम का भक्त हूँ, राम से प्यार है,
जीवन की राह पर, उनका आसार है।”

“श्रीराम जी की कृपा, सदैव बनी रहे,
उनकी भक्ति में, मन मेरा लीन रहे।”

गुणवान तुम बलवान तुम ,भक्तों को देते हो वरदान तुम |
भगवान तुम हनुमान तुम, मुश्किल को कर देते आसान तुम||

“राम जी की आराधना, है मेरी प्राथना,
उनकी छाया में, है सुख-शांति का वास।”

“राम राम बोल, मन को शांति मिले,
उनकी कृपा से, सभी दुःख हो खिले।”

राम जिनका नाम है, अयोध्या जिनका धाम है ।
ऐसे रघुनंदन को, शीश नवा कर प्रणाम है। ।

मन तो राम जी का मंदिर है, यहां सदा उन्हें विराजे रखना।
पाप का कोई भाग न होगा, बस श्रीराम को थामे रखना ।।

रामलला के आगमन की हार्दिक बधाई

राम जी आप सब पर कृपा बरसाते रहे।
हरपल हर घड़ी आप सब मुसकुराते रहे ।।

न खर्चा लगता है न पैसा लगता है ।
जय श्री राम बोलिए बड़ा अच्छा लगता है ।।

परिस्थिति चाहे कैसी भी हो,
होठों पर मुस्कान बनाए रखना।
जुबान में जय श्री राम और मन में,
श्रीराम पर विश्वास बनाए रखना।।

ना किसी के अभाव में जीते हैं, ना किसी के प्रभाव में जीते हैं ।
हम तो ठहरे राम भक्त ,सिर्फ प्रभु के भक्ति भाव में जीते हैं ।।

राम जी की ज्योति से नूर मिला है,
सबके दिलों को सुरूर मिला है।
जो भी गया राम जी के द्वार,
कुछ न कुछ जरूर मिला है।।

वह रक्त नहीं पानी है।
जो जय श्री राम ना बोले वह अज्ञानी है।।

जय श्री राम का नारा लगा के हम महफिल में छा गए।
दुश्मन भी छुप के बोले देखो राम भक्त आ गए।।