Happy Propose Day, 8 February shayari in hindi.

Propose Day , जो वालेंटाइन week का दूसरा दिन होता है, यह एक विशेष दिन है जब लोग अपनी भावनाओं को अदा करने के लिए अद्वितीय रूप से तैयारी करते हैं। इस मौके पर, हिंदी शायरी के माध्यम से हम एक रोमैंटिक आँधोलन में डूब सकते हैं और अपनी मोहब्बत को व्यक्त कर सकते हैं।

Advertisement

प्रपोज डे की शायरी एक रोमैंटिक और प्रेमभरा माहौल बनाती है, जिसमें दिल की बातें कहने का समय आता है। इस दिन को यादगार बनाने के लिए, लोग अपनी भावनाओं को व्यक्त करने का साहस करते हैं, और यह एक नई शुरुआत की शुरुआत होती है।

Happy Propose Day Shayari

यूं तो महबूबा के लिए चांद तारे तोड़ लाऊं,
इश्क में मैं तेरे सारा जहां छोड़ आऊं।
तू भी कर दे अगर इजहार-ए-मोहब्बत,
सारा जीवन तुझे अपनी पलकों पर बैठाऊं।।

दिल से तेरी बातें कहूं,
प्रपोज का मौसम है,
तेरे बिना जिंदगी,
एक ख्वाब सा लगता है।

तेरी मुस्कान में छुपा है एक जहाँ,
प्रपोज डे पर कहता हूँ,
तू मेरा इश्क नहीं, तो कुछ नहीं।

दिल मेरा तुमसे प्यार करना चाहता है,
दबी हुई मोहब्बत का इजहार करना चाहता है।
जब से देखा है मैंने तुझे ओ सनम,
ये दिल सिर्फ तुम्हारा दीदार करना चाहता है।

इश्क की राह में है सवारी,
प्रपोज डे पर करता हूँ यह इशारा,
मेरे साथ बनी रहो तुम हमेशा।

चाँदनी रातों में तेरी बातें याद आती हैं,
प्रपोज डे पर यह कहना चाहता हूँ,
तुमसे ही प्यार है मेरी जिंदगी।

फिजा में महकती शाम हो तुम,
प्यार में झलकता जाम हो तुम
सीने में छुपाए फिरते हैं हम यादें तुम्हारी
इसलिए मेरी जिंदगी का दूसरा नाम हो तुम।

गुलाबों की तरह खिलता है तेरा प्यार,
प्रपोज डे पर, सारी दुनिया से कहना है,
तू मेरा इंतज़ार।

मेरे साथ कुछ दूर चलो,
अपने दिल की सारी कहानी कह देंगे।
समझ न पाए जिस बात को तुम आंखों से,
उसे हम अपनी जुबां से कह देंगे।।

तेरी बाहों में है सुकून की बहार,
प्रपोज डे पर, तुझे सच्चे दिल से कहना है यार।

तुम्हें चाहना अब हमारी कमजोरी है,
दिल की बात जुबां पर लाना मजबूरी है।
तुमने न समझा हमारी खामोशी को
इसलिए प्यार का इजहार करना जरूरी है।।

इज़हार नहीं करना आता हमें प्यार का,
डरते है दिल ना दुःख जाये कही यार का।

मेरी सारी हसरतें मचल गईं
जब तुमने सोचा एक पल के लिए ।
अंजाम-ए-दीवानगी क्या होगी
जब तुम मिलोगी मुझे उम्र भर के लिए।।

हमसफ़र बनकर हमदम मेरे साथ चल दो ना,
कब तक तड़पाओगे तुम मुझे,
तुम्हे भी हमसे प्यार है कह दो ना।

अगर तुम न होते तो गजल कौन कहता,
तुम्हारे चेहरे को कमल कौन कहता,
यह तो करिश्मा है मोहब्बत का,
वर्ना पत्थर को ताज महल कौन कहता।

तेरी खुशियों को सजाना चाहता हूं,
तुझे देख कर मुस्कुराना चाहता हूं,
मेरी जिंदगी में क्या अहमियत है तेरी
यह लफ्जों में नहीं पास आकर बताना चाहता हूं!

प्यार क्या है ना पूछो तुम मुझसे,
क्या बताने से मान जाओगे,
यूं बताने से फायदा भी नहीं,
कर के देखो तो जान जाओगे।

कसूर तो था ही इन निगाहों का,
जो चुपके से दीदार कर बैठा,
हमने तो खामोश रहने की ठानी थी,
पर बेवफा ये ज़ुबान इज़हार कर बैठा।

तुमसे मिलने को दिल करता है
कुछ कहने का दिल करता है।
प्रपोज डे पर कह डालते हैं दिल की बात
हर पल तेरे संग बिताने को दिल करता है।।

दिल ये मेरा तुमसे प्यार करना चाहता हैं।
अपनी मोहब्बत का इजहार करना चाहता है।
देखा है जब से तुम्हें मेने मेरे ए-सनम।
सिर्फ तुम्हारा ही दीदार करने को दिल चाहता हैं।